Advertisements

Article 23 of Indian Constitution

    Article 23 of the Indian constitution
    Advertisements

    Article 23 of Indian Constitution| Article 23 in hindi

    article 23

    ARTICLE 23 IN HINDI AND ENGLISH

    • Article 23 of the Indian Constitution is Prohibition of ‘Trafficking in Human beings’ & ‘Forced Labor’. (भारतीय संविधान का अनुच्छेद 23 ‘मानव तस्करी’ और ‘जबरन श्रम’ का निषेध है।)

    Categories of Article 23 of Indian Constitution (भारतीय संविधान के अनुच्छेद 23 की श्रेणियाँ)

    1. Article 23 (1)
    2. Article 23 (2) (Exception to article- 23)

    What is Article 23 (1)? (अनुच्छेद 23(1) क्या है?)

    Article 23 (1) of Indian Constitution prohibits (भारतीय संविधान का अनुच्छेद 23(1) निषिद्ध करता है)

    1. Trafficking in Human beings. (मानव तस्करी।)
    2. Begar (Forced Labour) (जबरन मजदूरी)
    3. Other similar forms of Forced Labour. (जबरन श्रम के अन्य समान रूप।)
    • Any action which is against all the above provisions shall be punishable in accordance with the law. (उपरोक्त सभी प्रावधानों के विरुद्ध कोई भी कार्रवाई कानून के अनुसार दंडनीय होगी।)
    • The term ‘Begar’ means compulsory work without payment or compensation (remuneration). (‘BEGAR’ शब्द का अर्थ है बिना भुगतान या मुआवजे (पारिश्रमिक) के अनिवार्य कार्य।)

    NOTE – This Right is available to both Citizens and Non-Citizens. (नोट – यह अधिकार नागरिकों और गैर-नागरिकों दोनों के लिए उपलब्ध है।)

    Forced Labour (जबरन मज़दूरी कराना)

    forced labour
    • The term Forced Labour means compelling a person to work against his will. (जबरन श्रम का अर्थ है किसी व्यक्ति को उसकी इच्छा के विरुद्ध काम करने के लिए मजबूर करना।)
    • Article 23 of Indian constitution prohibits ‘similar forms of Forced Labour’ such as ‘Bonded Labour‘. (भारतीय संविधान का अनुच्छेद-23 ‘बंधुआ मजदूरी’ जैसे ‘जबरन श्रम के समान रूपों’ को प्रतिबंधित करता है।)
    • The word ‘force’ includes not only physical or legal force but also force arising from the compulsion of economic circumstances, that is, working for less than the minimum wage. (‘बल’ शब्द में न केवल शारीरिक या कानूनी बल शामिल है बल्कि आर्थिक परिस्थितियों की मजबूरी से उत्पन्न बल भी शामिल है, यानी न्यूनतम मजदूरी से कम पर काम करना।)

    Acts to safeguard against ‘Forced Labour’ under Article 23 (अनुच्छेद 23 के तहत ‘जबरन श्रम’ से बचाव के लिए अधिनियम)

    • There are several acts that provide protection from forced labour & help people to get the minimum wages. (ऐसे कई अधिनियम हैं जो बंधुआ मजदूरी से सुरक्षा प्रदान करते हैं और लोगों को न्यूनतम मजदूरी प्राप्त करने में मदद करते हैं।)
    • Below are some examples of such acts (नीचे ऐसे कृत्यों के कुछ उदाहरण दिए गए हैं।)
    1. Bonded Labour System (Abolition) Act
    2. Minimum Wages Act, 1948.
    3. Contract Labour Act, 1970.
    4. Equal Remuneration Act, 1976.

    Trafficing in human beings

    • Traffic in human beings include the following (मानव में यातायात में निम्नलिखित शामिल है।)
    1. Selling and Buying of men women and children like goods. (पुरुषों को महिलाओं और बच्चों को वस्तुओं की तरह पसंद करना और बेचना।)
    2. Immoral traffic in women & children, including Prostitution. (वेश्यावृत्ति सहित महिलाओं और बच्चों का अनैतिक व्यापार।)
    3. Devadasis. (देवदासी)
    4. Slavery. (गुलामी)

    Which Act provide Punishment for Trafficking in Human beings? (
    मानव तस्करी के लिए कौन सा अधिनियम सजा प्रदान करता है?)

    • To punish the acts that come under Human Trafficking, the Parliament has made the Immoral Traffic Prevention Act 1956. (मानव तस्करी के अंतर्गत आने वाले कृत्यों को दंडित करने के लिए संसद ने अनैतिक व्यापार निवारण अधिनियम 1956 बनाया है।)

    Article 23(2) of Indian Constitution (भारतीय संविधान का अनुच्छेद 23(2))

    Advertisements
    • Art 23(2) is an exception to Art 23. It permits the state to impose compulsory service for a public purpose or national interest. (अनुच्छेद 23(2) अनुच्छेद 23 का अपवाद है। यह राज्य को सार्वजनिक उद्देश्य या राष्ट्रीय हित के लिए अनिवार्य सेवा लागू करने की अनुमति देता है।)
    • For example, Military Service or Social Service. The State is also not bound to pay. (उदाहरण के लिए, सैन्य सेवा या समाज सेवा। राज्य भी भुगतान करने के लिए बाध्य नहीं है।)
    • However, in imposing such a service, the state is not permitted to make any discrimination on grounds only of religion, race, caste, or class. (हालाँकि, ऐसी सेवा लागू करने में, राज्य को केवल धर्म, जाति, जाति या वर्ग के आधार पर कोई भेदभाव करने की अनुमति नहीं है।)
    1. Can State Force an individual citizen? (क्या राज्य सरकार किसी नागरिक को बाध्य कर सकती है?)

    • They can but provided it is in the National Interest. (वे कर सकते हैं लेकिन बशर्ते यह राष्ट्रीय हित में हो।)

    Congratulations, you have finished article 23 of Indian Constitution. If you have any doubts or queries, feel free to leave a comment below. We will respond as soon as possible.

    Or Email Us At support@namastesensei.in

    MORE ARTICLES:

    Article 15Article 16
    Article 14Article 17
    Preamble of Indian ConstitutionRight to Freedom Article [19-22]

    Any topic you want us to cover. Let us know.

    Share this blog

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.